।दोहा।
( जिसे दुनियां ठुकरा देती है, उसे द्वार तुम्हारा मिलता है,
जिसे दुनियां नफरत करती है, उसे प्यार तुम्हारा मिलता है,
जगत प्रीत मत करियो रै मनवा जगत प्रीत मत करियो,
हो हरि वादा से डरियो रे मनवा, जगत प्रीत मत करियो।। )

ये जीवन दो दिन का मेला,
उड़ जाए तेरा हंस अकेला,
या पीछे मत पड़ियो रे मनवा, जगत प्रीत मत करियो,
जगत प्रीत मत करियो…..

इस दुनियां में कौन है तेरा,
दो दिन का दुनियां में डेरा,
गुरु चरण चित धरियो रे मनवा, जगत प्रीत मत करियो,
जगत प्रीत मत करियो…..

ये दुनियां तेरे काम न आवै,
क्यों दुनियां में मन भटकावे,
भव से पार उतरियो रे मनवा, जगत प्रीत मत करियो,
हरि वादा से डरियो रे मनवा, जगत प्रीत मत करियों…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह