मेरा छोटा सा संसार,हरि आ जाओ एक बार ।
हरि आ जाओ हरि आ जाओ,मेरी बिगड़ी आज बना जाओ ॥
मेरा छोटा सा संसार….

लाखों को दरश दिखाया है,प्रभु मुझको क्यों तरसाया है ।
ये कैसी तुम्हारी माया है,नित बहती है असुवन धार ।।
हरि आ जाओ एक बार,मेरा छोटा सा संसार….

जब याद तुम्हारी आती है,तन मन की सुध बिसराती है ।
रह रह के मुझे तड़पाती है,अब दर्शन दो दातार ।
हरि आ जाओ एक बार,मेरा छोटा सा संसार…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह