चाहे नचालो मैया अपने दरबार में,
हमको नचाना न माँ जूठे संसार में……..

जिसने तुम पर किया भरोसा फल उसने ही पाया,
मैया तेरीशान निराली अजब निराली माया,
अजब निराली लीला तेरी कोई समझ ना पाया,
काटे जाए सारा जीवन तेरे ही प्यार में,
मुझको नचाना न माँ जूठे संसार में……….

तेरी ही बन के पुजारिन अब तो मुझको जीना,
तू ही मेरी भाग्यविद्याता छूटे साथ कभी भी ना,
तेरे होते न डुभे नाइयाँ मजधार में,
मुझको नचाना न माँ जूठे संसार में……..

जग जननी माँ महिमा तुम्हारी राखियों लाज हमारी,
दूर करो माँ कष्ट माँ आयी शरण तिहारी,
जीवन कट जाए मेरा तेरे दरबार में,
मुझको नचाना न माँ जूठे संसार में…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह