ओ मैया महारानी तेरी चाहूँ ज्योत जलानी,
मैया करदे मेहरबानी एक रात की…….

मैंने दिल से तुम्हें पुकारा,
मेरे घर में आम पधारो,
आयी घड़ी सुहानी देखो नवरात्र की ….

मैं निर्धन हूँ ना है मेरे घर में बंदन चौकी,
फिर भी चाहूँ मेरे घर हो धूल तेरे चरणो की,
फेरा लगा दो मेरे अँगना में,
लाल चुनरियाँ घोटे वाली चाहूँ तुम्हें उढ़ानी………..

अबला नारी समझके मैया मुझको भूल ना जाना,
रूखा सूखा दिया जो हमको उसका भोग लगाना,
साथ निभाना अपने भक्तों का,
नवरात्रों में दर्श दिखा जा मुझको शेरावाली….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह