भूल्या ने राय समझ तुम देवो,
ह्रदय करो उजियारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

गणपति देव गुण के दाता,
सरस्वती मात सबकी माता,
काज सबका सारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

सरस्वती मात संग में लाओ,
बेड़ा मेरा पार लगाओ,
भरो ज्ञान भण्डारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

जोगी जति संत सन्यासी,
राजा प्रजा ओर बनवासी,
गावे जस तुम्हारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

गोकुल स्वामी सतगुरु दाता,
दे उपदेश जीव जगाता,
लादूदास पुकारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

भूल्या ने राय समझ तुम देवो,
ह्रदय करो उजियारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारो,
आनंद मेरे गणपति देव पधारों।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह