आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता,
माता तुम्हारी पार्वती,
और पिता हैं महादेव
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता….

पान फूल और हार हैं चढ़ते,
लड्डुओं का लगता है भोग गजानन,
आनंद के दाता
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता…..

एक तुम्हारे मुख में दन्त है,
भुजा तुम्हारी चार गजानन,
आनंद के दाता
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता…..

माथे तुम्हारे तिलक है साजे,
मूसे की है सवारी गजानन,
आनंद के दाता,
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता….

अंधे को तुम ज्योति देते,
कोढ़ी को देते काया गजानन,
आनंद के दाता
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता….

रिद्धि सिद्धि थारे अंग संग साजे,
सोए भाग जगाए जगाना,
आनंद के दाता,
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता……

शुभ और लाभ अंग संग साजे,
सारे विघन हटाओ गजानन,
आनंद के दाता,
आनंद के दाता हैं गजानन,
आनंद के दाता…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह