रुनझुन बाजे पायलिया मोरी मैया के पाँव में,
चाँदी के पलना में रेशम की डोरिया,
झूले निमिया के छाव में,
रुनझुन बाजे पायलिया मोरी मैया के पाँव में…….

सुन रे मलिनिया फुलवा लिया दे,
ललकी चुनरिया माई के ओढ़ा दे,
रंग जमा है मैया तेरे दरबार में,
रुनझुन बाजे पायलिया मोरी मैया के पाँव में……

कोमल रुपवा लागे ना नजरवा,
मैया के लगा दे आंखी में काजरवा,
करे गुणगान भक्ति भाव से,
रुनझुन बाजे पायलिया मोरी मैया के पाँव में…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह