गौरीसुत गणराज गजानन,
विघ्नहरण मंगलकारी,
जो नर तुमको प्रथम मनावै,
जो नर तुमको प्रथम मनावै,
दुविधा मिट जाए सारी,
गौरीसुत गणराज गजानन…..

प्रथम पूजनीय तू है बाबा तेरा,
सबसे पहले ध्यान किया,
बाधाओं से मुक्ति पाने,
तेरा ही आवहान किया,
आओ सवारों काज हमारे
बल बुद्धि के भंडारी,
गौरीसुत गणराज गजानन……

शिव शंकर के लाल पधारो,
आज हमारे कीर्तन में,
आकर पूरी कर देना प्रभु
जो भी आशा है मन में,
तेरे स्वागत की कर ली है
हमने सारी तैयारी,
गौरीसुत गणराज गजानन……

रिद्धि सिद्धि को भी संग में लाना,
गौरीपुत्र गणेश मेरे,
भर देना भण्डार हमारे,
बिगड़े काम बने मेरे,
रखना हरी भरी प्रभु तुम हरदम,
भक्तों की ये फुलवारी,
गौरीसुत गणराज गजानन……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह