हे बजरंगी राम दुलारे,
विनय मेरी स्वीकार करो,
हरी चरणन की लगन ना छूटे,
मुझ पर ये उपकार करो,
हे बजरंगी…..

मन मेरा मंदिर हो जाए,
सियाराम आके बस जाएँ,
नैनन नित तेरे दर्शन पाए,
वाणी मेरी हरी गुण गाये,
राही की है आस पुरानी,
हनुमान अब साकार करो,
हे बजरंगी…..

साँसों की माला में बनाऊं,
सुमिरन से जीवन को सजाऊँ,
एक पल भी ना हरी बिसराऊँ,
चरण शरण रघुवर की पाऊं,
राम नाम की नैया देकर,
हनुमत भव से पार करो,
हे बजरंगी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह