लाल देह लाली लगा के,
सियाराम को दिल मे बसा के,
भजते है सिया राम जी,
मेरे हनुमान जी,
जय सियाराम जी……

राम काज को धावे आगे,
संकट बिघ्न न इनको लागे,
भक्ति राम की ये बस मांगे,
सोये चाहे जब जब जागे,
बस यही है इनका काम जी,
मेरे हनुमान जी,
जय सियाराम जी…..

त्रेता मे राम के सेवक,
द्वापर मे कृष्ण सहायक,
कलयुग मे हैँ सबके नायक,
नाम इनका हैँ फलदायक,
कृपा है इनका महान जी,
मेरे हनुमान जी,
जायसिया राम जी,
लाल देह लाली लगा के…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह