सालासर हनुमान जी म्हारा संकट आज मिटा दो जी,
म्हें भी थारी शरण में आया बेडा पार लगा दो जी……

राम दूत थे राम भक्त थे राम नाम मतवाला हो,
शरणागत की रक्षा करता लाल लंगोटे वाला हो,
म्हें भी थारा दास हां बाबा म्हाने ना बिसारो जी,
म्हें भी थारी शरण में आया बेडा पार लगा दो जी…….

ईष्ट देव थे म्हारा बाबा सालासर हनुमान जी,
थारो नाम ही लेकर शुरू करता मैं हर काम जी,
काम कोई ना रुक पाता जब लेता थारो नाम जी,
म्हें भी थारी शरण में आया बेडा पार लगा दो जी…….

गांव शहर से पैदल चलकर भक्त द्वार पे आवे जी,
मन इच्छा फल द्वार से पाते खाली कोई ना जावे जी,
अंजनी की भी आस बाबा पूरी थे तो कर दो जी,
म्हें भी थारी शरण में आया बेडा पार लगा दो जी…….

भक्त दुखी थे देख ना पाता कलयुग के अवतार जी,
भक्त बुलावे दौड़ा आवो देखो ना दिन रात जी,
दिन दुखी दरवाजे आया सुनलो थे पुकार जी,
मे भी थारी शरण में आया बेड़ा पार लगा दो जी……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह