श्याम तेरा मनमोहक मुखड़ा,
उस पर नैन कमाल,
वाह तेरा क्या कहना,
वाह तेरा क्या कहना,
सिर पे मुकुट ये मणियों वाला,
और घुंघराले बाल,
वाह तेरा क्या कहना,
वाह तेरा क्या कहना……

चमक तेरे चेहरे की जैसे निकली हर दम धुप है,
देखा ना हमने कभी ऐसा प्यारा ये रूप है,
नज़र डाल के कर देता है पूरे सभी सवाल,
वाह तेरा क्या कहना,
वाह तेरा क्या कहना……

तीन बाण वाले तेरी अलग ही निशानी है,
मोरछड़ी की तेरी निराली कहानी है,
जिसके सिर पे घूम जाए वो हो जाता निहाल,
वाह तेरा क्या कहना,
वाह तेरा क्या कहना……

हर दिल को धीरज मिलता तेरे दर पे आते ही,
दीवाना वो बन जाए दर्शनों को पाते ही,
तेरी ये मुस्कान काटती पल में सब जंजाल,
वाह तेरा क्या कहना,
वाह तेरा क्या कहना……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह