उसका एहसास फ़िज़ाओं में बिखर गया है, ज़र्रा ज़र्रा सोने चांदी के जैसा निखर गया है,
क्या कहे लचक एक झलक जो देखी उसकी, नज़रो के रास्ते वो दिल में उतर गया है॥ )

कितना सुन्दर है सांवरा बखान क्या करूँ,
मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ,
श्याम क्या करूँ, श्याम क्या करूँ,
श्याम क्या करूँ, मेरे श्याम क्या करूँ,
ओ मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ,
मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ…….

मेरा है तुमसे बस इतना ही कहना,
उतरे हो दिल में तो दिल में ही रहना,
तेरे वास्ते है दिल का मकान क्या करूँ,
मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ,
ओ मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ…….

इसकी अदाओं ने पागल किया है,
दिल और जिगर मेरा घायल किया है,
तिरछी नज़रो के मार गया बाण क्या करूँ,
मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ,
ओ मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ…….

लचक का जबसे खाटू आना जाना हुआ है,
तूफानी भी तेरा दीवाना हुआ है,
तबसे दिल को बड़ा है आराम क्या करूँ,
मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ,
ओ मेरे दिल में उतर गया श्याम क्या करूँ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह