तुम सुनो श्री भगवान लगाकर ध्यान भूल मत जाना,
के तुम कलयुग में आना…..

मेरा गोकुल जैसे गाँव नही है,
यहाँ दूध दही का नाम नही है,
यहाँ मिले मोल का दूध बनाऊ उसकी खीर, खीर खा जाना,
के तुम कलयुग में आना,
तुम सुनो श्री भगवान लगाकर ध्यान भूल मत जाना……

मेरा मथुरा जैसे गाँव नही है,
यहाँ देशी घी का नाम नही है,
यहाँ मिले रिफाइंड तेल बनाऊ भोग, भोग खा जाना,
के तुम कलयुग में आना,
तुम सुनो श्री भगवान लगाकर ध्यान भूल मत जाना……

मेरा बरसाने जैसे गाँव नही है,
यहाँ राधा जैसी नार नही है,
यहाँ तरह तरह की नार हां जी हां नार भूल मत जाना,
के तुम कलयुग में आना,
तुम सुनो श्री भगवान लगाकर ध्यान भूल मत जाना…….

मैं अर्जुन जैसा भक्त नही हूँ,
मुझे गीता का कोई ज्ञान नही है,
यहाँ तरह तरह के लोग बनाते बात भूल मत जाना,
के तुम कलयुग में आना,
तुम सुनो श्री भगवान लगाकर ध्यान भूल मत जाना…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह