मारो ना पिचकारी भर मारो पिचकारी,
ऐसे मारो ना मोहन भर भर पिचकारी,
हमारी राधा रानी तो भीग जायेगी…….

फूलों सी हलकी है कलियों सी कोमल,
नाजुक नरम बड़ी गिरधारी,
हमारी राधा रानी तो भीग जायेगी………

पीछे पड़े हो राधा भागे आगे आगे,
तुम तो हो मोहन पक्के खिलाड़ी,
हमारी राधा रानी तो भीग जायेगी………

रंग लगाना है तो जुल्फों में लगादो,
प्रेम से होली खेलो बनवारी,
हमारी राधा रानी तो भीग जायेगी………

लाली कमल सी कहीं बिगड़ ना जाए,
राधा की चिंता हमे है भारी,
हमारी राधा रानी तो भीग जायेगी………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह