ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही….

एक माट्टी के दो दिवे थे,
दोनोवा के न्यारे न्यारे भाग,
कर्मा का साथी कोई नही,
एक जलया है माँ के मंदिर में,
दूजा चौराहे के बिच,
कर्मा का साथी कोई नही,
ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही…..

एक बाग़ में दो फुल लागे,
दोनुवा के न्यारे न्यारे भाग,
कर्मा का साथी कोई नही,
एक चढ़ा माँ के चरणों में,
दूजे का बन गया हार,
कर्मा का साथी कोई नही,
ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही….

एक बेल पर दो फल लागे,
दोनुवा के न्यारे न्यारे भाग,
कर्मा का साथी कोई नही,
एक फल तो वो बहुत ही मीठा,
दूजे में भरी कडवास,
कर्मा का साथी कोई नही,
ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही…..

एक माता के दो बेटे थे,
दोनुवा के न्यारे न्यारे भाग,
कर्मा का साथी कोई नही,
एक बनया है नगरी का राजा,
दूजा मांगरया भीख,
कर्मा का साथी कोई नही,
ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही….

एक राजा के दो रानी थी,
दोनुवा के न्यारे न्यारे भाग,
कर्मा का साथी कोई नही,
एक रानी तो जन जन हारी,
दूजी राख दी बाँझ,
कर्मा का साथी कोई नही,
ले लो रे हरी का नाम,
कर्मा का साथी कोई नही…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह