तर्ज:- नी मैं नचना मोहन दे नाल

होली खेलनी ए अज तेरे नाल, वृन्दावन रैंहन वालया
वृन्दावन रैंहन वालया, गोकुल च रैंहन वालया

1 थक गये खेल खेल जग नाल होलीयां
भर भर रंगां दीयां गागरां कई डोलीयां
रंग उतर गया नालो नाल, वृन्दावन रैंहन वालया

  1. रंग गईयां गोपीयां ते गोप ग्वाले
    रंग गये रंगा विच किस्मत वाले
    सुके रह गये असी मन्दहाल, वृन्द्रावन रैंहन वालया

३, रंग गुलाल, भावें खेल लड्डू होली
खेल फुल होली भावें खेल लट्ठ होली
भावें खेल तूं मखनां नाल, वृन्दावन रैंहन वालया

  1. छड्ड मुरली फड़ लै पिचकारी
    रंग दे श्यामा अज खलकत सारी
    मुख करदे लालो लाल, वृन्दावन रैंहन वालया
  2. वम्ज रहे होलियां दे ढोल नगारे
    नच लै ‘मधुए’ तूं वी नच रहे सारे
    नच नच अन पौनी ए धमाल, वृन्दावन रैंहन वालया
Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह