मेरे श्याम मेरे घर आये मेहरा हो गइयाँ,
जिथे चरण टिकाये मेहरा हो गइयाँ,
हो गईया जी हो गईया मेहरा मेहरा हो गईया,
मेरे श्याम मेरे घर आये मेहरा हो गइयाँ,
जिथे चरण टिकाये मेहरा हो गइयाँ…..

सोहने श्याम दे चरणा विच बरकत,
बरकत दे विच वसदा अमृत,
जो पीवे तर जावे मेहरा हो गईया,
मेरे श्याम मेरे घर आये मेहरा हो गइयाँ,
जिथे चरण टिकाये मेहरा हो गइयाँ…..

जिथे मेरे श्याम चरण टिकाउँदे,
कष्ट रोग सारे मिट जांदे,
सत्संग विच श्याम आये मेहरा हो गाइयाँ,
मेरे श्याम मेरे घर आये मेहरा हो गइयाँ,
जिथे चरण टिकाये मेहरा हो गइयाँ…..

भीलनी ने चरनामत पीता,
दर्शन उसने राम दा किता,
झूठे बेर खिलाये मेहरा हो गईया,
मेरे श्याम मेरे घर आये मेहरा हो गइयाँ,
जिथे चरण टिकाये मेहरा हो गइयाँ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह