होली है ब्रज में रंग बरसे,
राधा रानी को मिलने ने श्याम तरसे………

राधा तो महलों में सोई पड़ी है,
कोण बुला के ने ल्यावे घर से,
होली है ब्रज में रंग बरसे,
राधा रानी को मिलने ने श्याम तरसे………

राधा तो महलों में सजती संवरती,
श्याम देखे आवेगी निकल घर से,
होली है ब्रज में रंग बरसे,
राधा रानी को मिलने ने श्याम तरसे………

राधा तो महलों में कर रही भोजन,
हल्का सा झोंका आया उधर से,
होली है ब्रज में रंग बरसे,
राधा रानी को मिलने ने श्याम तरसे………

राधा ने अटरिया पे देख्या जो चढ़ के,
दिल का कमल गया खिल झट से,
होली है ब्रज में रंग बरसे,
राधा रानी को मिलने ने श्याम तरसे………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह