ऊंचे परबतां ते सोहना तेरा मंदिर माँ,
जिथे जगदिया ज्योता अंदर माँ…..

ऊंचे परबतां ते गुफा निराली ए,
इस गुफा च शेरावाली ए…..

ऊंचे परबतां ते शेर तेरा गजदा माँ,
दूरो वेखा भवन तेरा सजदा माँ…..

तेरे मंदिरा च वजदिया टल्लियाँ माँ,
भगता ने देहलीज़ा मल्लियां माँ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह