दोहा :
पीतरां न भूलां नहीं जो बाँधे या गांठ ।
वे घर जाकर देखल्यो भोत घनेरा ठाठ ॥

तर्ज :
खाटू को श्याम रंगीलो रे

पीतरां की ज्योत सवाई जी पीतरां की,
ज्योति सवाई आंकी घणी सकलाई,
म्हें तो मिल कर महिमा गाई जी, पीतरां की ॥

कुल का देव ये कुल का रक्षक,
चरणां मांय झुकाल्यो मस्तक,
थे सदा करो सेवकाई जी, पीतरां की ॥

घर परिवार का मालिक समझों,
थारे सिर पर आं को करजो,
जो कुछ है सारी कमाई जी, पीतरां की ॥

हर मांवस न ज्योत थे लीज्यो,
सालू- साल पहरावनी दीज्यो,
और दिल से करो बड़ाई जी, पीतरां की |

“बिन्नू” सेवक मण्डल के सागै,
अरज करे है पीतरां के आगे,
म्हाने याद घनेरी आई जी पीतरां की ॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह