आज अयोध्या के आये है राम,
धूम मची है चारो ही धाम,
नाचे रे गाये सब दीप जलाय….. धूम मची है चारो ही धाम…..

माता कौशल्या के आँखों के तारे,
दसरथ जी के है राज दुलारे,
भाई भरत के प्राण है राम….. धूम मची है चारो ही धाम…..

भक्त हनुमंत रटता श्री राम,
पत्थर भी तिरता लिखा था जो नाम,
कलयुग के बंधन थोड़े जो नाम….. धूम मची है चारो ही धाम…..

भक्त धरम लिखता है राम,
गाता सुनाता कहता श्री राम,
अंत समय सब रटना राम….. धूम मची है चारो ही धाम…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह