चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके,
तू तो सारी मटके मेरा दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

बृजभान की लली दही बेचन को चली,
वाके सिर पर माट दही को छलके,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरा टीका दमके तेरी बिंदी चमके,
पड़ी श्याम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरा हरवा चमके तेरी माला दमके,
पड़ी श्याम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरे कंगना चमके तेरी मेहंदी दमके,
पड़ी श्याम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरी तगड़ी चमके तेरा गुच्छा दमके,
पड़ी श्याम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरी पायल चमके तेरी महावर दमके,
पड़ी शाम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

तेरा लहंगा चमके तेरी चुनर दमके,
पड़ी शाम की नजर वाको दिल धड़के,
चली आईओ री गुजरिया तू तो सारी मटके…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह