बोल कागा बोल,
मेरे राम कब आएंगे,
शबरी की कुटिया के,
भाग्य जाग जाएँगे,
बोल कागा बोल,
मेरे राम कब आएंगे…..

आए नही राम जी,
लगाई कहाँ देर है,
चुन चुन के मेने कबसे,
रख दिए बेर है,
बलि बलि जाउगी जब,
राम मेरे आएगे,
बोल कागां बोल,
मेरे राम कब आएंगे……

लादे रे कागा मेरे,
राम की खबरिया,
आएँगे धनुष धारी,
कौन सी डगरिया
अखियाँ बिछा दूँगी जब,
मेरे राम आएंगे,
बोल कागां बोल,
मेरे राम कब आएंगे……

भोले भाले दौनो भाई,
बड़े ही रिझावर हैं,
मेरी इस नैया के,
वो ही पतवार है,
जान के अनाथ हमको,
पार वो लगाएंगे,
बोल कागां बोल,
मेरे राम कब आएंगे…….

राम की लगान में,
मगन थी मैं काग रे,
लगी हुई पापो वाली,
बुझ गयी आग रे,
बिगड़ी पुरानी मेरी,
आके वो बनाएँगे,
बोल कागां बोल,
मेरे राम कब आएंगे…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह