हमारे साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता,
शरण में रख दिया जब माथ तो, किस बात की चिंता ||

किया करते हो तुम दिन रात क्यों, बिन बात की चिंता..(x2)
तेरे स्वामी को रहती है, तेरी हर बात की चिंता..(x2)
हमारें साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता ||

ना खाने की ना पीने की, ना मरने की ना जीने की..(x2)
रहे हर स्वास पर भगवान के, प्रिय नाम की चिंता..(x2)
हमारें साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता ||

विभिषण को अभय वर दे किया, लंकेश पल भर में..(x2)
उन्ही का कर रहे गुणगान तो, किस बात की चिंता..(x2)
हमारें साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता ||

हुई ब्रजेश पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना..(x2)
उन्ही के हाथ में अब हाथ तो, किस बात की चिंता..(x2)
हमारें साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता ||

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो, किस बात की चिंता,
शरण में रख दिया जब माथ तो,किस बात की चिंता ||

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह