प्राण से बढ़कर प्रजा को अपने पलकों पर जो रखता था,
पिता की आज्ञा की खातिर जो वन में दर दर भटका था,
मर्यादा पुरषोत्तम राम अपना रखवाला है,
मर्यादा पुरषोत्तम राम अपना रखवाला है,
राज्य अयोध्या सा,
राजा प्रभु राम हमारा है…..

सूर्य तिलक माथे पे चमके,
हाथ मे तीर कमान लीए,
विकट विपत्ति में भी हरदम,
अधरों पर मुस्कान लिए….

जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम…..

एक तरफ़ सीता मैया तो,
एक तरफ़ हैं लखन खड़े,
भक्ति में हो मगन तेरे,
हैं चरणों में हनुमान पड़े….

हर कोना कोना जिससे जग का उजियारा है,
हर कोना कोना जिससे जग का उजियारा है,
राज्य अयोध्या सा,
राजा प्रभु राम हमारा है…..

सबरी हो या रावण हो,
तुमने सबका उद्धार किया,
केवट हो चाहे हो विभीषण,
तुमने सबको प्यार दिया…..

जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम…..

शत्रू के संग भी जीस ने था मित्रो सां व्यवहार किया,
प्रेम की खातिर सागर पर था,
रामसेतु भी बांध दिया,
दशरथ नंदन हमको तू प्राणों से भी प्यारा है,
दशरथ नंदन हमको तू प्राणों से भी प्यारा है,
राज्य अयोध्या सा,
राजा प्रभु राम हमारा है,
राज्य अयोध्या सा,
राजा प्रभु राम हमारा है…..

जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह