भिलनी नचे ते भंगड़े पावे,
अज मेरे राम ने आना है,
अज मेरे राम ने आना ऐ,
मेरे भगवान ने आना ऐ…..

दौडी नदी दे वल जावे,
ओथो गंगाजल लैयावे,
ओथो गंगाजल लैयावे,
राम नू स्नान कराना ऐ…..

दौडी जंगल दे वल जावे,
ओथो कुशा तोड लैयावे,
ओथो कुशा तोड लैयाऐ,
राम दा आसन लाना ऐ…..

दौडी बागा दे वल जावे,
ओथो फुल तोड लैयाऐ,
ओथो फुल तोड लैयाऐ,
राम नू हार पवाना ऐ…..

दौडी जंगल दे वल जावे,
ओथो बेर तोड लैयाऐ,
ओथो बेर तोड लैयाऐ,
राम नू भोग लगाना ऐ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह