(जय श्री राम जय जय जय जय श्री राम)

शबरी मगन है राम भजन में,
राम दरस की आस है मन में,
(जय श्री राम जय जय जय जय श्री राम)
देख लो राम को इस जीवन में,
राम दरस की आस है मन में,
शबरी मगन है राम भजन में……

राह निहारे श्रद्धा से निश दिन,
राम राम रटते जाए पल छिन,
रात रही है इंतजार की,
घड़ियां उंगली पे गिन गिन,
देर ना होगी अब दर्शन में,
राम दरस की आस है मन में,
शबरी मगन है राम भजन में…….

राम से जोड़े प्रेम के धागे,
लोग मोह माया मनसे त्यागे,
राम से जोड़े प्रेम के धागे,
लोग मोह माया मनसे त्यागे,
राम का सुमिरन करके के सोए,
जय श्री राम की बोल के जागे,
राम का मंदिर है आंगन,
राम दरस की आस है मन में,
शबरी मगन है राम भजन में…..
(जय श्री राम जय जय जय जय श्री राम)

रोम रोम में राम गए हैं रम,
राम ही गाऐं सांसों की सरगम,
राम की याद में जब शबरी के,
नैन बरस जाते छन छन,
राम को देखे वो असुवन में,
राम दरस की आस है मन में,
शबरी मगन है राम भजन में,
राम दरस की आस है मन में……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह