पई फुल्लां वाली होवे बरसात,
माँ दे सोहने मंदिरा उत्ते,
फूल बरसनगे सारी सारी रात,, जय हो,
माँ दे सोहने मंदिरा उत्ते,
पई फुल्लां वाली होवे बरसात……

गुट्टा ते गुलाब गेंदा बरसन कलियाँ,
फूलां नाल सजिया माँ दर दिया गलियाँ,
शेरावाली माँ दी अज्ज क्या बात,, जय हो,
माँ दे सोहने मंदिरा उत्ते,
पई फुल्लां वाली होवे बरसात……

भगता ने फूलां वाला भवन सजाया ए,
श्रद्धा दे नाल जगराता करवाया ए,
होनी माँ दे नाल अज्ज मुलाकात,, जय हो,
माँ दे सोहने मंदिरा उत्ते,
पई फुल्लां वाली होवे बरसात……

विष्णु ब्रह्मा शिव आरती उतारदे,
आशु गुण गाउँदा सदा माँ दे दरबार दे,
कहन्दे कोमल जलंधरी दास,, जय हो,
माँ दे सोहने मंदिरा उत्ते,
पई फुल्लां वाली होवे बरसात……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह