आरती करो हरिहर की करो,
नटवर की,
भोले शंकर की,
आरती करो शंकर की…..

सिर पर शशि का मुकुट संवारे,
तारों की पायल झनकारे,
धरती अम्बर डोले तांडव,
लीला से नटवर की,
आरती करो शंकर की,
आरती करो हरि-हर की करो,
नटवर की,
भोले शंकर की,
आरती करो शंकर की…..

फणि का हार पहनने वाले,
शम्भू है जग के रखवाले,
सकल चराचर अगजग नाचे,
ऊँगली पर विषधर की,
आरती करो शंकर की,
आरती करो हरि-हर की करो,
नटवर की,
भोले शंकर की,
आरती करो शंकर की….

महादेव जय जय शिवशंकर,
जय गंगाधर जय डमरूधर,
हे देवो के देव मिटाओ,
तुम विपदा घर घर की,
आरती करो शंकर की,
आरती करो हरि-हर की करो,
नटवर की,
भोले शंकर की,
आरती करो शंकर की….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह