आज गौरा ते शिव दा बयाह आये शिव दूल्हा बनके,
असा वेखना है भोले दा बयाह आये शिव दूल्हा बनके……

राजा हिमाचल ने नगर सजाये ऐ, नगर सजाये ऐ,
प्रेम नाल सारे रिश्तेदार बुलाये ऐ, रिश्तेदार बुलाये ऐ,
कैसा सुन्दर मंडप सजा के आए शिव दुल्हा बनके,
अज गौरां ते शिव दा ब्याह…..

शिवां जी दे सिर उत्ते चांद सेहरा सजदा, चांद सेहरा सजदा,
हथ विच सर्पां दा कंगना पाया ऐ, कंगना पाया ऐ,
बुढे बैल उत्ते हो के सवार, आए शिव दुल्हा बनके,
अज गौरां ते शिव दा ब्याह…..

दही भल्ले पूरी छोले खीर वी बणाई ऐ, खीर वी बणाई ऐ,
शिवां जी दी खीर विच भंग वी मिलाई ऐ, भंग वी मिलाई ऐ,
नशा प्रेम वाला गया हुंण छा, के आए शिव दुल्हा बनके,
अज गौरां ते शिव दा ब्याह…..

शिव दी बारात वेख मैंना घबराई ऐ, मैंना घबराई ऐ,
सर्पां दी माला शिव गले विच पाई ऐ, गले विच पाई ऐ,
असां होण ना देणा ब्याह, के बोली मैंना राणी तन के,
अज गौरां ते शिव दा ब्याह…..

ब्रह्म विष्णु इंद्र ने मैंना समझाई ऐ, मैंना समझाई ऐ,
ताइयों हिमवान गौरां डोली विच पाई ऐ, डोली विच पाई ऐ,
रहे डम डम डमरू बजा, के आए शिव दुल्हा बनके,
अज गौरां ते शिव दा ब्याह….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह