बाबा जी मेरे भोले बाबा जी,
राजा जी महाकाल राजा जी…..

चोखट पे आ गई जो कोई भी हस्ती,
हर चीज मिलेंगी मेहगी हो या सस्ती,
मेरे बाबा भोले नाथ पे अब छोड़ दें कस्ती,
भूतों के राजा की सजती है ये बस्ती,
बाबा तेरी नगरी में किरपा बरसती……

दुनिया के झूठे लोगों से रिश्ता नहीं रखना,
महाकाल के चरणों में मुझको तो है रहना,
मेरे बाबा भोलेनाथ की किरपा का क्या कहना,
जन्मों जनम की प्यास तो इस धाम पे बुझती…..

दासी है है तेरे द्वार की चरणो से लगाले,
दर्शन की प्यासी आंखे अपने पास बुलाले,
(हीना) को जोगी बनके तेरे दर पे बिठाले,
बाबा की एक झलक को दुनिया है तरसती……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह