शंकरा शंकरा देवो के देव महादेव……..

वो जो अधूरा था मुझमे पहले,
तेरे आने से पूरा हुआ है,
अंधेरो में थी ज़िन्दगी मेरी,
मेरे शम्भु ने सवेरा किया,
मेरे शिवा,, मैं तो तुझमे डूब रहा,
खुद में तुझी को,, तुझी को खुद में ढूंढ रहा हु,
मेरे शिवा……

कोई दूजा ना जाने, उसका मेरा नाता,
बस मैं ही जानू मेरे शिव का,
मुझसे क्या है रिश्ता,
कण कण में है जो बसा,
युगो युगो से अमर रहा,
कैलाश पर्वत पे है बैठा,
डमरू वाला मेरा शिवा,
मेरे शिवा,, मैं तो तुझमे डूब रहा,
खुद में तुझी को,, तुझी को खुद में ढूंढ रहा हु,
मेरे शिवा……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह