ओ शिव भोले मेरे, मेरा मन डोले, जागो समाधी गोरा बोले…..

बैठे ओ बाबा मेरे, अखियाँ मुंध के
केह केह के हारी गोरा बोले ना सुन के,
सुनलो बिनंती मेरी, चरणों में बोल के,
जागो समाधी…..

शीश पे गंगे गले पे भुजंगे, डम डम डमरू बोले,
भूत प्रेत संगे औघड़ दानी मेरे लगे भस्म अंगे,
जागो समाधी…..

गोठी बाबा भांग तिहारे पीवे नित भंगे,
भूत नाचे प्रेत नाचे गण नित संगे,
ओ मेरे दयालु भोले सुन मेरे शंकरे,
जागो समाधी…..

जन्म जन्म तेरी दासी बनु मैं,
हर पल तेरे चरण पड़ु मैं,
धरम कहे समाधी खोले शिव बोले,
जागो समाधी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह