डमरू वाले हो, भोले भाले हो,
पावन महीना सावन का आया है,
भक्तो ने तुमको मिलकर बुलाया है……

भोले भंडारी तुम दयाकारी,
करते हो नंदी की सवारी,
भगत जो तेरे दर पे आये,
बन जाता वो तेरा पुजारी,
आ जाओ एक बार, भोले भंडारी,
अब तो दर्श दिखा दो,
डमरू वाले हो, भोले भाले हो,
पावन महीना सावन का आया है,
भक्तो ने तुमको मिलकर बुलाया है……

सावन में लगता है तेरा मेला,
भगत तेरा नहीं है कोई अकेला,
वर है देते भोले भंडारी,
पूरी इच्छा होती है सारी,
आते है दौड़े, शम्भु भोले,
दास ने जब भी बुलाया,
डमरू वाले हो, भोले भाले हो,
पावन महीना सावन का आया है,
भक्तो ने तुमको मिलकर बुलाया है……

सब कुछ मिलता दर पे तेरे,
जो भी तुमको मन से पुकारे,
कष्ट सदा हरते हो भगवन,
भव सागर से पार उतारे,
गाते महिमा तेरी भोले,
तुम भी सबकी सुनते हो,
डमरू वाले हो, भोले भाले हो,
पावन महीना सावन का आया है,
भक्तो ने तुमको मिलकर बुलाया है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह