शुकर तेरा माँ किवें करां,
मैनु समझ ना आउंदी ए,
मैं मंगदा हां इक तेरे तो,
तू लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए,
शुकर तेरा माँ…..

मेरा शुक्राना बड़ा छोटा ए,
तेरी रहमत काफी वड्डी ए,
मैं हो गया मालामाल नी माँ,
दर झोली जदो दीं अड्डी ए,
मैं दर्शन करने आउंदा हां,
तू गोद बिठाउंदी ए,
मैं मंगदा हां इक तेरे तो,
तू लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए….

मैं जो भी तैथों मंगया ए,
तू रज्ज के झोली पाया ए,
जो मेरे लई माँ ठीक नहीं,
तू प्यार नाल समझाया ए,
जो ठीक हुँदा ओ मेरे लई,
तू आप दे जांदी ए,
मैं मंगदा हां इक तेरे तो,
तू लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए….

मैं प्यार तेरा माँ मंगया सी,
तू चरणा दे नाल लाया ए,
तू सर ते हथ माँ धरया सी,
जग ने जिसनु ठुकराया ए,
इक तू ही जानी जान मईया,
हर गाल समझाउंदी ए,
मैं मंगदा हां इक तेरे तो,
तू लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए….

मैं भेंटा तेरिया सुन्दा हां,
तेरी मूरत मन विच बुन्दा हां,
तेरी हो गयी ऐसी रेहमत माँ,
गुणगान तेरा माँ गाउँदा हां,
जदो मेहर करे मेरी अम्बे माँ,
विद्वान बनाउँदी ए,
मैं मंगदा हां इक तेरे तो,
तू लख लुटाउँदी ए,
मेरी माँ लख लुटाउँदी ए….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह