पुष्प चढ़ाऊं मंदिर मैं जाऊं,
शिव की धुन में, मैं रम जाऊं,
शिव स्तुति मन से मैं गाऊँ,
सत्य ही शिव है सबको बताऊं……….

शिव के ह्रदय श्री राम है बसते,
राम ह्रदय शिव जी है बस्ते,
दोनों बसते मेरे ह्रदय में,
शिव शंकर ही हनुमत मेरे…………

त्रेता युग में हनुमत बन के,
प्रभु श्री राम के भक्त कहाये,
द्वापर युग में योगी बनकर,
बाल कृष्ण से वे मिल आये….

संकट जब धरती पे आया,
भोले ने है सबको,
नीलकंठ वे हैं त्रिपुरारी,
उनसे होती भक्ति पूरी,
शिव के ह्रदय श्री राम है बसते,
राम ह्रदय शिव जी है बस्ते ,
दोनों बसते मेरे ह्रदय में,
शिव शंकर ही हनुमत मेरे………….

कालों के काल ये महाकाल हैं,
मृत्युंजय हैं मेरे शंकर,
गंगाधर है वो है दिगंबर,
बड़े कृपालु, वो हैं शिवेश्वर…

शिव के ह्रदय श्री राम है बसते,
राम ह्रदय शिव जी है बस्ते,
दोनों बसते मेरे ह्रदय में,
शिव शंकर ही हनुमत मेरे………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह