शम्भू की मस्ती में मन को डुबाया ,
शम्भू की माया में दिल को लगाया ,
शम्भू की छाया में खुद को बसाया ,
शम्भू को अपना हाथ थमाया ,
शम्भू हर रग में है तू ही तू ,
हर कण में तू ही तू,
जहां भी देखूं हरदम हरपल,दिखता बस तू ही तू।
शम्भू मेरा तू ही तू ,रग रग में तू ही तू…….

सबकी दुआ को सुनता शम्भू ,
हर दर्द का मरहम शम्भू ,
बिखरे को जोड़े शम्भू ,
सुख दुःख का साथी शम्भू ,
है सारे जहां में शम्भू ,
मेरे भी कर भी शम्भू ,
तेरे भी कर भी शम्भू ,
कहीं भी जाऊं कहीं भी देखूं, मिलता बस तू ही तू।
शम्भू मेरा तू…..

मेनें जब से होश संभाला ,
मैं शम्भू शम्भू बोलूं -2
मेरे हाथ में शिव की माला ,
मेरे साथ है डमरू वाला ,
क्यूँ न शिव शम्भू बोलूं-2
है चाँद सितारे शम्भू ,
है डमरू नगाड़े शम्भू ,
है हवा बहारें शम्भू ,
नदियों की धारा शम्भू ,
कुदरत का नज़ारा शम्भू ,
है रूह का सहारा शम्भू ,
है प्यार हमारा शम्भू,
जिस पल कोई काम न आया ,उस पल भी बस तू ही तू।
शम्भू मेरा तू….. ।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह