तेरे डमरू की धुन सुनके मैं काशी नगरी आई हूं,
मेरे भोले ओ बम भोले मैं काशी नगरी आई हूं,
तेरे डमरू की धुन सुनके मैं काशी नगरी आई हूं…..

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में मुक्ति है,
उसी गंगा में नहाने को मैं काशी नगरी आई हूं,
तेरे डमरू की धुन सुनके मैं काशी नगरी आई हूं……

सुना है हमने ओ भोले तेरी काशी में गंगा है,
उसी गंगा को पाने को मैं काशी नगरी आई हूं,
तेरे डमरू की धुन सुनके मैं काशी नगरी आई हूं……

सुना है हमने ओ भोले तेरा काशी में मन्दिर है,
उसी मन्दिर में पूजा को काशी नगरी आई हूं,
तेरे डमरू की धुन सुनके मैं काशी नगरी आई हूं……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह