महाकाल मेरे उज्जैन के राजा हैं,
दुखिया रहे हैं दुखड़े अपने महाकाल को सुनाना है,
अब के सावन में हमने बस एक ही जिद को ठाना है,
जाना है पास जाना है,
उज्जैन नगरिया जाना है…….

टूटे कभी ना महाकाल से यह जन्मों का बंधन,
करने चला महाकाल पर जीवन अपना अर्पण,
उज्जैन जाना भी मेरे दिल का यह अरमान है,
धन दौलत क्या चीज है इसको दुनिया में रह जाना है,
जाना है बस जाना है उज्जैन नगरिया जाना है………

रोकना रास्ता जाने दे मुझको महाकाल ने बुलाया है,
वहीं पर जाकर कहूंगा मैं किस-किस ने मुझे रुलाया है,
एक तेरे सिवा ओ बाबा कोई ना सुनने वाला है,
बस तू ही अपना है भोले जग सारा बेगाना है,
जाना है बस जाना है उज्जैन नगरिया जाना है……

महाकाल लोक का यह मंजर कितना सुहाना होगा,
कितनी दुआएं लब पर ले कर बैठा दीवाना होगा,
उस मांगते की सुनके सदाएं महाकाल जब आएंगे,
बेशक फिर उस दीवाने की किस्मत ही खुल जाना है,
जाना है बस जाना है उज्जैन नगरिया जाना है……….

मांग रहे हैं तुझ से ओ बाबा झोली फैलाकर भीख,
तेरे दर से जो भी मिलेगा मेरे लिए सब ठीक,
मेरी नहीं औकात ओ बाबा सब कुछ मैं पा जाऊं,
एक नजर कर दो ओ बाबा मिलने तुमसे आना है,
जाना है बस जाना है उज्जैन नगरिया……….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह