देव धणी को मन्दिर प्यारो , मालासेरी गाँव जी,
साडू मां का लाल थांको , जग में मोटो नाम जी.
जय जय गूंजे जी जयकारों थारा नाम को.

माह महीना में आप पधारिया , थावर रूड़ो वार जी।
कमल फूल अवतारी , किदो भक्ता को उद्धार जी ॥
जय जय गूंजे जी ……………….

साडू माता गुजरी , तपस्या किन्ही भारी जी ।
मालासेरी डुंगरिया में , आय मिल्या बनवारी जी ॥
जय जय गूंजे जी………………

धन्य मालासेरी डूँगरी , धन्य देमाली धाम जी ।
धन्य साडू मां गुजरी , जोल्या में आया श्याम जी ॥
जय जय गूँजे जी……………..

मां साडू का लाडला थें , भुणा जी का बीर जी।
बालपणा गाये चराता , खारी नदी की तीर जी॥
जय जय गूंजे जी…………….

प्रजापति कैलाश आपको , प्यारो भजन बनायो जी।
चम्पा लाल मालासेरी वालो ,चरणा शीश जुकायो जी ॥
बेड़ो पार लगाओ जी , नारायण थांका दास को ।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह