मन हरि हरि बोल ,
हरि नारायण तू बोल,
मन हरि हरि बोल,
हरि नारायण तू बोल॥

छोड़ के सारे जग के बंधन,
नाम हरि का जप ले,
नाम हरि का जप ले,
हरि नाम की मिश्री अपने,
कानों में तू घोल,
मन हरि हरि बोल,
हरि नारायण तू बोल॥

साथ नहीं जाएगी तेरे,
माया और ये काया,
माया और ये काया,
माया और काया के पीछे,
ऐसे तू मत डोल,
मन हरि हरि बोल,
हरि नारायण तू बोल॥

केवल नाम यहीं सच्चा है,
झूठी दुनिया सारी,
झूठी दुनिया सारी,
झूठी दुनिया सारी है ये,
अब तो आखें खोल,
मन हरि हरि बोल,
हरि नारायण तू बोल॥

अंत समय तक तेरे केवल,
काम यहीं आएगा,
काम यही आएगा
भव से पार उतर जाएगा,
नाम बड़ा अनमोल,
मन हरि हरि बोल,
हरि नारायण तू बोल॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह