ये माया तेरी,अजब निराली भगवान,
बङे-बङे ॠषियों को लूटा,शूर वीर बलवान,

हाड माँस का बना पूतला,ऊपर चढा है चाम,
देख-देख सब लोग रिझावे,केवल रूप ओर नाम,

हाथ पैर इनके नही दीखे,फिर भी करे सब काम,
आँख कान रसना नही इनके,फिर भी है सब ज्ञान,

करते है उपदेश ओरा को,भूल गया निज खाम,
ओरो की उलझन में फसकर,अपना काम तमाम,

आ माया है जगत डाकणी,नही करती विश्राम,
सदानन्द निज रूप को जानो,मिथ्या जगत तमाम,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह