गणराज मेरे घर आ जाना,
मेरे बिगड़े भाग्य बना जाना,
मेरे बिगड़े भाग्य बना जाना,
गणराज मेरे घर आ जाना…..

तेरी राह में पलक बिछाऊँगी,
और भवन सजाऊँ फूलों से,
गौरी के लाला आ जाना, मेरे बिगड़े भाग्य बना जाना…..

तेरा मुखड़ा सुंदर सलोना है,
मेरें मन ने तुझे बस जाना है ,
भोले के दुलारे आ जाना,
मेरे बिगड़े भाग्य बना जाना……

चंदन चौकी पे बिठाऊँगी ,
मोदक का भोग लगाऊँगी,
मेरे देव प्रभु तुम आ जाना,
मेरे बिगड़े भाग्य बना जाना……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह