दर ते आवां हाल सुणावा दाती कर मेहरबानीया,
माँये अम्बे कर मेहरबानीया,
हो जाण मैया किवें दूर दुख मेरे दिल विच सोचा रहंदीयां,
मायें दिल विच सोचा रहंदीयां,
दर तेे आवां हाल सुणावा……

सड़ गये मेरे कर्म अवलड़े,
दुखा ने फेरीया मारीयां,
मै रोवां ते हार पिरोवां दर ते सगंता सारीयां,
माँये दर सगंता सारीया,
दर तेे आवां हाल सुणावा…….

ओखीया हुदींआ गम दीयां राता,
माँ निद्रां नही पेदियां,
हो जाण मैया कींवे दर्शन तेरे दिल विच सोचा रहदीयां,
माँये दिल विच सोचा रहदीयां,
दर तेे आवां हाल सुणावा…….

तु ते सब दे दिल दीयां जाणे,
मै सुनांवा आण के,
मेरे दिल दीयां जाण लै मैया समझा जानी जानीयां,
माँये समझा जानी जानीयां,
दर तेे आवां हाल सुणावा……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह