तर्ज – दिल लूटने वाले जादूगर

गजानंद तुम्हारे चरणों में,
एक प्रेम पुजारी आया है,
एक प्रेम पुजारी आया है,
तेरे द्वार भिखारी आया है…..

मेरे हाथो में फूलो की माला है,
ये तुझे पहनाने आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है……

मेरे हाथो में जल का लौटा है,
ये तुम्हे नहलाने आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है….

मेरे हाथ में चंदन की प्याली है,
ये तिलक लगाने आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है…..

मेरे हाथ में मोदक मिश्री है,
ये भोग लगाने आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है…..

मेरे हाथ में तेरी माला है,
तेरा नाम जपन को आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है…..

एक प्रेम पुजारी आया है,
तेरे द्वार भिखारी आया है,
गजानंद तुम्हारे चरणो में,
एक प्रेम पुजारी आया है……….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह