झूला झूले हो गजानंद झुलना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना…..

काहे की डाली पे झूला बंधाये,
झूला बंधाये, झूला बंधाये,
काहे के लागे पालना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना……

पीपल की डाली पे झूला बंधाये,
झूला बंधाये, झूला बंधाये,
चंदन के लागे हो पालना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना……

काहे की पलने में डोर लगाए,
डोर लगाए तुमने, डोर लगाए,
काहे के लगाए फुँदना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना……

पलने में रेशम की डोर लगाए,
डोर लगाए तुमने, डोर लगाए,
किसम किसम के फुँदना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना…..

कौन गजानन्द को लोरी सुनाये,
लोरी सुनाये, लोरी सुनाये,
कौन सुलाए पालना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना…..

गोरा गजानन्द को लोरी सुनाये,
लोरी सुनाये तुमको, लोरी सुनाये,
शिवजी झुलाये पालना,
झूले झूले हो गजानंद झुलना……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह