मुझे अम्बे मैया ने बुलाया चली मै माँ के दर को चली,
चली मै माँ के दर को चली, चली मै माँ के दर को चली,
मेरी माँ का सन्देशा आया चली मै माँ के दर को चली,
मुझे अम्बे मैया ने बुलाया……..

ऊँचे पर्वत माँ का द्वारा, भक्तो के जीवन का जो सहारा,
मेरे बार बार सपनोे में आया चली मै माँ के दर को चली,
मुझे अम्बे मैया ने बुलाया……..

चरणों में मैया के जांऊ बलिहारी, भक्तो के रक्षक सकंटहारी,
माँ के चरणों ने दीवाना बनाया चली मै माँ के दर को चली,
मुझे अम्बे मैया ने बुलाया……..

बाँवरी होई कमली होई, प्रेम दीवानी पगली होई,
माँ की विराह ने इतना सताया चली मै माँ के दर को चली,
मुझे अम्बे मैया ने बुलाया……..

मन मेरे की यही अभिलाषा, हर दम तेरे दर्शन की आशा,
मेरा जग से जी भर आया चली मै माँ के दर को चली,
मुझे अम्बे मैया ने बुलाया……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह