( प्रथमे निमंत्रण आपको,
मेरे अड़े सवारों काज।
विच सभा दे बैठ्या,
तुम रखिओ मेरी लाज।
सिर सोने दा मुकुट है,
मुषक ते सवार।
जय हो गणपती, जय हो गणपती,
तेरी जय जैकार।। )

गणपती श्री गणेश दी, बोलो जय जैकार।।
वार वार तेरे चरणा तो,
जावां मैं बलिहार,
गणपती श्री गणेश दी, बोलो जय जैकार।।

प्रथमे जो कोई तैनू ध्यावे,
सुख स्मृति घर विच आवे।।
आपने सुत्ते भाग जगावे।।
हो जाये बेड़ा पार,
गणपती श्री गणेश दी, बोलो जय जैकार।।

मात गौरा दा तू ए लाला,
पिता भोला शिव डमरू वाला।।
रिद्धि सिद्धि दा रखवाला।।
सब दा करे उद्धार,
गणपती श्री गणेश दी, बोलो जय जैकार।।

गजानंद सदा जय हो तेरी,
करो चौहान दी मनसा पूरी।।
रख लो मेरा मान सभा विच।।
दे चरणा दा प्यार,
गणपती श्री गणेश दी, बोलो जय जैकार।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह