कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्।
सदा बसन्तं हृदयारबिन्दे भबं भवानीसहितं नमामि।।

हे गजानन गणपति देवा,
महादेव सुत पार्वती,
लड्डू मोदक का भोग लगाऊं,
करूँ तुम्हारी आरती,
हे गजानन गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती॥

विघ्न हरो सब क्लेश हरो,
संताप हरो गणपति देवा,
हे बुद्धिनाथ हे आरंभ विनायक,
पाप हरो गणपति देवा,
करूँ मैं वंदन गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती,
हे गजानन गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती॥

तेरी कृपा से चलता है,
ब्रह्माण्ड निकाय जग सारा,
एक दन्त हे भाव चंद्र,
तुझसे सूरज चंदा तारा,
विघ्न विनाशक गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती,
हे गजानन गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती,
लड्डू मोदक का भोग लगाऊं,
करूँ तुम्हारी आरती,
हे गजानन गणपति देवा,
महादेव सूत पार्वती……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह